क्या आप जानना चाहते हैं, “क्रिकेट क्या है“? यह व्यापक लेख आपको (Info About Cricket in Hindiक्रिकेट के बारे में गहराई से जानकारी देगा।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्रिकेट आपके लिए नया है, यह लेख आपको इस खेल की मूल बातें सिखाएगा और अनुभवी लोगों को अग्रिम ज्ञान देगा।

इससे पहले की हम आपको क्रिकेट के बारे में विस्तृत जानकारी दें, आइए सबसे पहले क्रिकेट की परिभाषा को समझते हैं।

यदि आप इस लेख के किसी विशिष्ट भाग तक पहुंचना चाहते हैं, तो आपके आरंभ करने के लिए सामग्री की एक उपयोगी तालिका बनाई गई है:

क्रिकेट क्या है? | What Is Cricket in Hindi?

क्रिकेट घर के बाहर खेला जाने वाला एक खेल है जो बड़े से मैदान पर खेला जाता है। लाखों लोग इस खेल को खेलते हैं और दुनिया के कोने कोने से करोड़ों लोग इसे पसंद करते हैं।

यह एक बहुत पुराना खेल है जो लगभग 250 वर्षों से अधिक समय से चला आ रहा है। इस खेलका पहला अंतर्राष्ट्रीय मैच उस समय से बहुत पीछे 1844 में खेला गया था।

अपनी उच्च स्तरीय खेल भावना के कारण क्रिकेट को (जेंटलमैन गेम) सज्जनों का खेल कहा जाता है जिसका अर्थ है विरोधियों पर छींटाकशी और धोखाधड़ी के बिना खेला जाने वाला खेल।

इसके अलावा क्रिकेट को ‘बल्ले और गेंद का खेल’ के वैकल्पिक नाम से भी जाना जाता है क्योंकि ये दोनों ही इस खेल के मुख्य उपकरण होते हैं। यह खेल दर्शकों की संख्या के मामले में दुनिया का दूसरा सबसे लोकप्रिय खेल है।

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें कौशल के साथ-साथ टीम वर्क, समन्वय, धैर्य, आक्रामकता, जोश और उत्सव के संयोजन की आवश्यकता होती है। यह सिर्फ रन बनाने, विकेट लेने और मैच जीतने के बारे में नहीं है, बल्कि खेल भावना दिखाते हुए एक अनूठी खेल संस्कृति अपनाने के बारे में भी है।

आइए, अब इस खेल की अवधारणा को समझते हैं:

क्रिकेट की अवधारणा (Concept of Cricket in Hindi)

क्रिकेट एक टीम गेम है जो दो टीमों के बीच खेला जाता है। खेल का मुख्य उद्देश्य होता है प्रतिद्वंद्वी से अधिक रन बनाना।

एक खिलाड़ी यानी गेंदबाज एक कठोर चमड़े की गेंद धीमी या तेज गति से विरोधी टीम के एक खिलाड़ी यानी बल्लेबाज की ओर फेंकता है, जो उसे बल्ले से मारने का प्रयास करता है।

आम तौर पर क्रिकेट अंडाकार आकार के बड़े से मैदान पर खेला जाता है। मैदान के मध्य में पिच बनी होती है, जिस पर अधिकांश गतिविधियां होती है। बल्लेबाजी करने वाली टीम के एक समय में दो बल्लेबाज मैदान पर उपस्थित रहते हैं, जबकि फील्डिंग टीम के सभी 11 खिलाड़ी मैदान पर रहते हैं।

बल्लेबाज गेंद को अपने बल्ले से मार कर दो तरह से रन बनाते है:

  1. गेंद को सीमा के पार भेज कर, चार और छह रन के रूप में
  2. यदि गेंद सीमा के बाहर न जा पाए तो विकटों के बीच दौड़ कर

इसी बिच क्षेत्ररक्षक गेंद को पुनः प्राप्त कर रहे होते हैं क्यूंकि क्रीज पर मौजूद दोनों बल्लेबाज द्वारा दौड़कर पूरी की गई पिच की लंबाई एक रन के बराबर होती है।

फील्डिंग पक्ष का उद्देश्य रनों की संख्या को सीमित करना और बल्लेबाज को आउट करना होता है।

बल्लेबाज को 11 अलग-अलग तरीके से आउट किया जा सकता है जिनमें से सबसे आम है:

  • बोल्ड: गेंदबाज, गेंद फेंकता है, बल्लेबाज इसे मारने से चूक जाता है, गेंद स्टंप्स पर जा टकराती है और बेल्स गिर जाते हैं।
  • कॉट या कैच: बल्लेबाज गेंद को मारता है और क्षेत्ररक्षकों में से एक गेंद को जमीन पर गिरने से पहले ही पकड़ लेता है।
  • एलबीडब्ल्यू: गेंदबाज गेंद फेंकता है, बल्लेबाज उसे चूक जाता है और गेंद स्टंप की सीध में उसके पैर पर लगती है।
  • रन आउट: बल्लेबाज गेंद को हिट करता है और रन पूरा करने के लिए विपरीत पॉपिंग क्रीज़ को छूने दौड़ता है, उससे पहले ही क्षेत्ररक्षकों में से एक गेंद को स्टंप्स पे दे मारता है।

जब कोई बल्लेबाज आउट हो जाता है, तो वो खेल का मैदान छोड़ देता है और उसकी जगह टीम का दूसरा साथी ले लेता है। एक बार जब किसी टीम के सभी बल्लेबाज आउट हो जाते हैं, तो बल्लेबाजी करने की बारी फील्डिंग टीम की होती है।

पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम द्वारा निर्धारित कुल स्कोर को दूसरी बल्लेबाजी करने वाली टीम पार करने का प्रयास करती है। सीधे शब्दों में कहें, तो दोनों पक्षों की बल्लेबाजी के बाद सबसे अधिक रन बनाने वाली टीम विजेता होती है।

मैच का परिणाम आने में कुछ घंटों से लेकर पांच दिन तक का लंबा समय भी लग सकते है, यह पूरी तरह से खेल के प्रारूप पर निर्भर करता है। सौभाग्य से धीमा कहे जाने वाले इस खेल का एक आधुनिक प्रारूप आधिकारिक तौर पर स्वीकारा जा चूका है जो आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है।

क्रिकेट के बारे में सारांश | Summary About Cricket in Hindi

ग्याराह ग्याराह खिलाड़ियों की दो टीमों के बीच बल्ले और गेंद से खेला जाने वाला क्रिकेट का यह खेल परियों में विभाजित होता है।

दोनों टीमें एक-एक करके पारियों में बल्लेबाजी द्वारा गेंद पर प्रहार कर रन बनाती है, जबकि विरोधी टीम गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण द्वारा रन बचाने के साथ साथ बल्लेबाजी टीम की पारी समाप्त करने का प्रयास करती है।

प्रत्येक टीम द्वारा समान संख्या में पारी खेलने के बाद, अधिक रन बनाने वाली टीम विजेता होती है।

गेंदबाज और बल्लेबाज के बीच वर्चस्व की कभी न खत्म होने वाली लड़ाई उन चीजों में से एक है जो क्रिकेट को इतना दिलचस्प खेल बनाती है।

क्रिकेट की विस्तृत जानकारी | Detailed Cricket Information in Hindi

क्रिकेट एक जटिल खेल है इसे पूरी तरह से समझने के लिए ज़रूरी हो जाता है इस खेल की बुनियादी बातें, नियम और सभी पहलुओं को जानना जिसमें विशेष रूप से मैदान, उपकरण, बल्लेबाज़ी, गेंदबाज़ी, फील्डिंग, रन-स्कोरिंग, प्रारूप आदि शामिल हैं।

तो चलिए एक एक कर इस खेल से जुड़ी सभी चीज़ों को विस्तार से समझते हैं:

मैदान के बारे में जानें | Know About Ground in Hindi

क्रिकेट का मैदान बहुत बड़ा, घासयुक्त, अंडाकार आकार का होता है। मैदान का आकार अंडाकार होना जरूरी नहीं है, फिर भी यह आमतौर पर इसी आकार का होता है।

मैदान के केंद्र को 30-गज घेरे द्वारा चिह्नित किया जाता है जिसका उपयोग सीमित ओवर प्रारूपों के पावरप्ले के दौरान क्षेत्ररक्षण प्रतिबंधों के लिए किया जाता है।

मैदान के किनारों पर रस्सी बिछाकर एक घेरा बनाया जाता है, इसे बाउंड्री (सीमा रेखा) कहते हैं जो चार और छह रन तय करती है।

पिच

क्रिकेट के पूरे मैदान पर छोटी-छोटी घास होती है, सिवाय बीच के आयताकार भाग के जिसे पिच कहते हैं।

क्रीज़

पिच के प्रत्येक छोर पर गढ़े स्टंप के दो सेटों से सटी एक आयत बनाने वाली रेखाओं को क्रीज़ कहा जाता है। इस आयत की चार रेखाओं में से एक को पॉपिंग क्रीज़, एक को बॉलिंग क्रीज़ और दो को रिटर्न क्रीज़ कहा जाता है।

आइए क्रीज़ के इन प्रकारों को विस्तार से समझें:

बॉलिंग क्रीज

पिच के बीच के 22 गज के हिस्से को छोड़कर दोनों सिरों पर एक एक रेखा खींची जाती है जिसे बॉलिंग क्रीज कहा जाता है।

8 फीट 8 इंच (2.64 मीटर) लंबी ये लाइन प्रत्येक छोर पर तीन स्टंप के केंद्र से होकर गुजरती है या यह भी कहा जा सकता है कि इस रेखा पर बिल्कुल केंद्र में तीन स्टंप गढ़े होते हैं।

पॉपिंग क्रीज

बॉलिंग क्रीज़ के समानांतर और उससे चार फीट की दूरी पर यानी पिच के बीच के 22 गज के हिस्से में खींची गई रेखा को पॉपिंग क्रीज कहा जाता है।

रिटर्न क्रीज

दो रेखाएं जो पॉपिंग क्रीज से शुरू होकर बॉलिंग क्रीज के एक एक किनारे को छूती हुई पिच के अंत तक जाती है इन दो रेखाओं को रिटर्न क्रीज कहा जाता है।

ये रेखाएं पिच के दोनों किनारों पर होती है यानी एक पिच पर कुल चार रिटर्न क्रीज बनाई जाती हैं।

एक पॉपिंग क्रीज़, एक बॉलिंग क्रीज़ और दो रिटर्न क्रीज़ एक-दूसरे से जुड़े होते हैं और सभी मिलकर आयताकार आकार बनाते हैं और ये आयताकार आकार पिच के दोनों किनारों पर बनाया जाता है।

उपकरणों के बारे में जानें | Know About Equipment in Hindi

क्रिकेट खेलने के लिए, आपको आवश्यकता होगी कम से कम:

  • दो बल्ले
  • एक गेंद
  • छह स्टंप
  • चार बेल्स

बल्ला

क्रिकेट का बल्ला विलो लकड़ी से बना होती है, जो एक तरफ से पूरी तरह से सपाट होता हैं, दूसरी तरफ मजबूती के लिए उभरा हुआ होता है और इसका हैंडल बेलनाकार होता है।

क्रिकेट खेलते समय बल्लेबाज बल्ले के सपाट हिस्से से गेंद पर प्रहार करता है।

गेंद

क्रिकेट की गेंद कॉर्क से बनी होती है जिसके ऊपर चमड़े का कवर सिला हुआ होता है।

  • सीमित ओवर क्रिकेट की गेंद: सफेद रंग की गेंद पर काले रंग की सिलाई होती है।
  • टेस्ट क्रिकेट की गेंद: लाल रंग की गेंद पर सफेद रंग की सिलाई होती है।

(नोट: कॉर्क एक हलका नरम पदार्थ होता है जो एक प्रकार के पेड़ की छाल होती है।)

स्टंप्स

बेलनाकार बड़ी लकड़ी को स्टंप कहा जाता है। स्टंप्स को पिच पर लंबवत रूप से दफनाया जाता है।

बेल्स

बेलनाकार छोटी सी लकड़ी को बेल्स कहा जाता है। बेल्स को स्टंप्स पर क्षैतिज रूप से संतुलित किया जाता है।

इन सारे उपकरणों के बिना इस खेल का खेला जाना मुमकिन नहीं है। इन के अलावा भी बहुत से उपकरण क्रिकेट में उपयोग किए जाते हैं जैसे कि हेलमेट, ग्लव्स, पैड, थाई पैड आदि जिनका उपयोग सुरक्षा कारणों से किया जाता है।

बल्लेबाजी के बारे में जानें | Know About Batting in Hindi

बल्लेबाजी! संभवतः खेल का सबसे रोमांचक हिस्सा, जिसका न सिर्फ खेलने वाला बल्कि दर्शक भी सबसे अधिक आनंद लेते हैं।

आधुनिक बल्लेबाजी तूफानी और विस्फोटक शॉट्स से भरपूर है जो पारंपरिक बल्लेबाजी की तुलना में अधिक मनोरंजक है।

बल्लेबाज़ी क्या है?

सरल शब्दों में परिभाषित किया जाए तो, बल्लेबाजी गेंदबाज़ द्वारा फेंकी गई गेंद को बल्ले से मारने की क्रिया है, लेकिन इसमें इसके अलावा भी बहुत कुछ है:

बल्लेबाज का उद्देश्य अपने विकटों का बचाव करते हुए रन बनाने का प्रयास करना होता है।

बल्लेबाज दो तरह से रन बनाता है:

  1. वह गेंद को इतनी दूर तक मारे कि गेंद मैदान के बाहर यानी सीमा रेखा को छू ले यदि गेंद मैदान की जमीन को छू कर बाहर चली जाए, तो चार रन प्राप्त होते हैं यदि गेंद बिना छुए सीमा को पार कर जाए, तो इसका मूल्य छह रन होता है, जो की एक हिट द्वारा बनाया जाने वाला अधिकतम रन है।
  2. जब गेंद सीमा रेखा न पार कर सके, तो क्रीज पर मौजूद दोनों बल्लेबाज विपरीत दिशाओं में पिच की लंबाई तक दौड़कर रन बनाते हैं इससे पहले की कोई क्षेत्ररक्षक गेंद को स्टंप्स पर दे मारे।

जब वो दोनों बल्लेबाज अपनी विपरीत पॉपिंग क्रीज को छू लेते हैं तो एक रन पूरा माना जाता है।

गेंद की दिशा को नियंत्रित करने के लिए एक बल्लेबाज को अच्छी बल्लेबाजी तकनीक की आवश्यकता होती है जिस की शुरुआत बल्ले की एक ठोस और आरामदायक पकड़ से होती है:

बल्ले की पकड़

बल्लेबाज बल्ले को दोनों हाथों से पकड़ते हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए बल्ले की निचली पकड़ बाएं हाथ की होती है और दाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए निचली पकड़ दाएं हाथ की होती है।

बल्लेबाजी रुख

बल्लेबाजी के रुख कई आकारों में आ सकते हैं। बल्लेबाज चाहे दाएं हाथ का हो या बाएं हाथ का, आमतौर पर उसका चेहरा गेंदबाज की ओर रहता है और दोनों पैर लगभग कंधे की चौड़ाई से अलग संतुलित रहते हैं।

शॉट्स

बल्लेबाज गेंद को हिट करने के लिए विभिन्न तरीकों से बल्ला घुमाकर विभिन्न प्रकार के शॉट लगाता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि गेंद को किस दिशा में निर्देशित किया जाना है।

पारंपरिक क्रिकेट शॉट्स में फॉरवर्ड डिफेंस, ड्राइव, कट, पुल, स्वीप और ग्लांस शामिल हैं। टी20 क्रिकेट के अस्तित्व में आने के बाद से कई असाधारण शॉट्स का आविष्कार होता जा रहा है।

गेंदबाजी पर प्रतिक्रिया करने के लिए बल्लेबाज के पास केवल कुछ ही सेकंड होते हैं, क्योंकि इस खेल में 150 किलोमीटर प्रति घंटे से भी ज्यादा की गति से गेंदबाजी की जा सकती है। इसलिए बल्लेबाजों को गेंद को हिट करने और रन बनाने के लिए अपनी प्रवृत्ति, तीव्र सजगता और अच्छी तकनीक पर अत्यधिक भरोसा होना चाहिए।

इसके साथ ही उन्हें शॉट खेलते समय गेंदबाज की रणनीति, क्षेत्ररक्षकों की स्थिति और पिच की स्थिति पर भी विचार करना पड़ता है।

शतक/अर्ध शतक

प्रत्येक मैच में किसी बल्लेबाज की पारी की सफलता का सबसे मान्यता प्राप्त माप यह है कि क्या वह 100 रन बना पाता है? इसे क्रिकेट जगत में शतक के रूप में जाना जाता है।

किसी बल्लेबाज की महानता अक्सर उसके करियर में बनाए गए कुल शतक और प्रति पारी औसत रन से मापी जाती है।

बल्लेबाजी एक कला है और इसमें महारत हासिल करने में एक खिलाड़ी का पूरा करियर लग सकता है। एक बल्लेबाज में सफल होने के लिए आवश्यक कौशल, धैर्य, समय, तकनीक और साहस कुछ ऐसी चीजें हैं जो क्रिकेट को इतना अद्भुत खेल बनाती हैं।

गेंदबाजी के बारे में जानें | Know About Bowling in Hindi

गेंदबाजी! संभवतः खेल का दूसरा सबसे रोमांचक हिस्सा, जो देखने में भले ही बल्लेबाज़ी जितनी आकर्षक न लगे पर होता सबसे ज़्यादा प्रभावशाली है।

आधुनिक गेंदबाजी स्विंग, तेज़ गति, धीमी गति आदि विविधताओं से भरपूर है जो पिछले दशक की गेंदबाजी से अधिक प्रभावी है।

गेंदबाजी क्या है?

गेंदबाजी क्रिकेट की गेंद को कंधे के ऊपर से हाथ की कोहनी को मोड़े बिना पिच के ऊपर से बल्लेबाज की ओर धकेलने की क्रिया है, लेकिन इसमें इसके अलावा भी बहुत कुछ है:

गेंदबाज का उद्देश्य बल्लेबाज को आउट करना साथ ही उनके द्वारा बनाए जाने वाले रनों की मात्रा को सीमित करने का प्रयास करना होता है। गेंदबाजी करते हुए गेंदबाज के अगले पैर का कुछ हिस्सा पॉपिंग क्रीज़ के पीछे लैंड होना अनिवार्य होता है।

गेंदबाज़ एक समय पर छह गेंदों का एक सेट फेंकते हैं जिसे ओवर कहा जाता है। एक गेंदबाज को लगातार दो ओवर फेंकने की अनुमति नहीं होती।

पिच का वो किनारा जहां से गेंदबाज गेंदबाजी करता है, छोर कहलाता है। प्रत्येक ओवर की समाप्ति के साथ गेंदबाजी छोर बदल जाता है, मतलब एक बार एक छोर से छह गेंदें फेंकने के बाद, टीम का एक साथी खिलाड़ी दूसरे छोर से गेंदबाजी करता है।

क्रिकेट में कई अलग-अलग गेंदबाजी शैलियाँ हैं जिनमें से प्रत्येक के लिए एक अलग कौशल सेट की आवश्यकता होती है।

गेंदबाजी के दो मुख्य प्रकार हैं, तेज और स्पिन, लेकिन इनमें कई विविधताएं हैं:

इन दोनों के अलावा, मध्यम गति की गेंदबाजी भी गेंदबाजी का एक प्रकार है जिसे हम तेज गेंदबाजी के रूप में वर्गीकृत करेंगे क्योंकि इसमें उपयोग की जाने वाली विविधताएं तेज गेंदबाजी से मेल खाती हैं।

तेज़ गेंदबाज़ी

जिस गेंद की गति तेज होती है तेज गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें तेज गेंदबाज कहा जाता है।

तेज गेंदबाज का लक्ष्य बल्लेबाज के प्रतिक्रिया समय को सीमित करते हुए गेंद को यथासंभव अधिक गति से फेंकना होता है। कभी-कभी वे बल्लेबाज को एकदम धीमे गति की गेंद से चकमा दे देते हैं।

अब आइए, स्विंग, सीम जैसी तेज गेंदबाजी की विभिन्न विविधताओं को समझें जिनका उपयोग दुनिया के सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजों द्वारा किया जाता है:

स्विंग गेंदबाज़ी

वह गेंद जो हवा में अपनी लाइन बदल लेती है स्विंग गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें स्विंग गेंदबाज कहा जाता है।

अधिकतम तेज गेंदबाज या मध्यम गति के गेंदबाज गेंद को स्विंग कराने की क्षमता रखते हैं। वे हवा में उस बिंदु से गेंद की लाइन बदलते जहां से गेंद उनके हाथ से छूटती है और जब बल्लेबाज तक पहुंचती है तो उसके लिए गेंद की लाइन का आकलन करना मुश्किल हो जाता है।

सीम गेंदबाज़ी

गेंद जो अपनी सीम पर पिच से टकराकर तेजी से बाएं या दाएं दिशा में कोण बनाती है सीम गेंदबाज़ी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें सीम गेंदबाज कहा जाता है।

अधिकतम तेज गेंदबाज या मध्यम गति के गेंदबाज सीम गेंदबाजी की क्षमता रखते हैं। वे अक्सर गेंद को उसकी सीम पर पिच कराने की कोशिश करते हैं।

गति के साथ कोण बदलती ऐसी गेंद पर अच्छे से अच्छे बल्लेबाज के आउट होने की संभावना बढ़ जाती है।

अब आइए गेंदबाजी के दूसरे प्रकार को जानें:

स्पिन गेंदबाजी

वह घुमाव वाली गेंद जो पिच के टकराकर एक कोण बनाती हुई दाईं या बाईं ओर अपनी दिशा बदलती है स्पिन गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें स्पिन गेंदबाज कहा जाता है।

स्पिन गेंदबाज़ों द्वारा अनुसरण की जाने वाली मूल बातें इस प्रकार हैं:

  • वे गेंद को इस तरह से पकड़ते हैं कि छोड़ने पर ऊँगली या कलाई के झटके से गेंद घूमने लगती है।
  • वे अक्सर गेंद को पिच कराने की कोशिश करते हैं ताकि घूमती गेंद का फायदा मिल सकें।
  • वे गेंद की गति धीमी रखते हैं ताकि गेंद यथासंभव अपनी दिशा बदल सके।

अब आइए, लेग स्पिन, ऑफ स्पिन जैसी स्पिन गेंदबाजी की विभिन्न विविधताओं को जानें जिनका उपयोग दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिन गेंदबाज करते हैं:

लेग स्पिन गेंदबाजी

वह गेंद जो पिच होने के बाद बाईं ओर घूम जाती है लेग स्पिन गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें लेग स्पिन गेंदबाज कहा जाता है।

लेग स्पिन गेंदबाजी के लिए गेंदबाज ज्यादातर अपनी कलाइयों का उपयोग करते हैं इसलिए उन्हें रिस्ट स्पिनर भी कहा जाता है।

ऑफ स्पिन गेंदबाजी

वह गेंद जो पिच होने के बाद दाईं ओर घूम जाती है ऑफ स्पिन गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें ऑफ स्पिन गेंदबाज कहा जाता है।

ऑफ स्पिन गेंदबाजी के लिए गेंदबाज ज्यादातर अपनी उनलियों का उपयोग करते हैं इसलिए उन्हें फिंगर स्पिनर भी कहा जाता है।

मिस्ट्री स्पिन गेंदबाजी

वह गेंद जो पिच होने के बाद कभी दाईं तो कभी बाईं ओर घूम जाती है मिस्ट्री स्पिन गेंदबाजी कहलाती है और जो ऐसा करने में सक्षम होते हैं उन्हें मिस्ट्री स्पिन गेंदबाज कहा जाता है।

मिस्ट्री स्पिन गेंदबाजी के लिए कुछ गेंदबाज कलाइयों का तो कुछ गेंदबाज उंगलियों का उपयोग करते हैं।

सभी स्पिन गेंदबाजों के पास अपने कौशल के आधार पर बल्लेबाज को धोखा देने के लिए अपने शस्त्रागार में विशेष गेंदें होती हैं। उदाहरण के लिए, बल्लेबाज को गेंद एक दिशा में घूमती हुई दिखाई देगी, लेकिन वास्तव में वह दूसरी दिशा में घूम जाएगी।

गेंदबाजी जितनी कौशल पर निर्भर है उतनी ही रणनीति पर भी। गेंदबाज हर गेंद पर बल्लेबाज को मात देने का प्रयास करते है।

गेंदबाज अपने कप्तान के साथ रणनीति बनाता है की फील्डरों को कहां रखना है और वो उसी के अनुसार गेंद करता ताकि विकेट लेने की संभावना बढ़ जाए।

गेंदबाजी एक कठिन कला है जो बल्लेबाजी की अपेक्षा खिलाड़ियों में कम देखने को मिलती है। एक सफल गेंदबाज़ के अंदर हुनर, अनुशासन, उपयुक्तता, चतुराई, मेहनत और साहस कुछ ऐसी चीजें है जो इस खेल को संतुलित बनाती हैं।

क्षेत्ररक्षण के बारे में जानें | Know About Fielding in Hindi

क्रिकेट के मैदान पर आपने अब तक जो सबसे शानदार दृश्य देखे हैं उनमें से एक क्षेत्ररक्षण निश्चित रूप से होगा।

आधुनिक क्षेत्ररक्षण अत्यंत एथलेटिक, अत्यधिक कुशल है जो कभी-कभी वास्तव में अविश्वसनीय प्रतीत होता है।

फील्डिंग/क्षेत्ररक्षण क्या है ?

क्षेत्ररक्षण गेंद को तेजी से और कुशलता से पकड़ने की क्रिया है, लेकिन इसमें इसके अलावा भी बहुत कुछ है:

क्षेत्ररक्षक के दो मुख्य उद्देश्य होते हैं, पहला विपक्षी टीम के रनों को सीमित करना और दूसरा बल्लेबाज़ों को आउट करना। फील्डिंग टीम के सभी 11 खिलाड़ीयों द्वारा फील्डिंग की जाती है जिनमें 9 क्षेत्ररक्षक, एक विकेटकीपर और एक गेंदबाज शामिल होते हैं।

प्रत्येक क्षेत्ररक्षक की मैदान पर व्यक्तिगत स्थिति होती है लेकिन ये सभी एक टीम के रूप में काम करते हैं।

विकेटकीपर

सबसे विशिष्ट क्षेत्ररक्षण स्थान विकेटकीपर का होता है, एकमात्र क्षेत्ररक्षण सदस्य जो दस्ताने और लेग गार्ड (पैड) पहनता है। विकेटकीपर के अलावा किसी भी क्षेत्ररक्षक को सुरक्षात्मक उपकरण पहनने की अनुमति नहीं होती जब तक कि वे बल्लेबाजों के बहुत करीब न हों।

विकेट कीपर का मुख्य उद्देश्य गेंद को रोकना होता है जो बल्लेबाज के पास से गुजरती है।

एक विकेटकीपर के तौर पर उसे मैदान पर कई काम करने होते हैं जैसे:

  • जब गेंद बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर के करीब पहुंचे या आसमान में उछल जाए तो वो उसे कैच करके बल्लेबाज को आउट कर सकता है।
  • गेंद को खेलते समय बल्लेबाज क्रीज के बाहर निकल जाए तो वो बल्लेबाज को स्टंप आउट कर सकता है।
  • इसके अलावा, एक नियमित क्षेत्ररक्षक की तरह वह विपक्षी टीम के रनों को सीमित कर सकता है और रन आउट भी कर सकता है।
क्षेत्ररक्षक

अन्य नौ क्षेत्ररक्षक विपक्षी टीम के रनों को रोककर और बल्लेबाज़ों को आउट कर मैदान पर बखूबी अपनी भूमिका निभाते हैं।

क्षेत्ररक्षक बल्लेबाजों को इन विभिन्न तरीकों से आउट कर सकते हैं:

  • गेंद को बल्लेबाज द्वारा हिट करने के बाद जमीन को छूने से पहले पकड़कर
  • जब बल्लेबाज़ रन के लिए दौड़े गेंद को सीधे स्टंप पर हिट मारकर
  • अपने टीम के किसी साथी खिलाड़ी के पास गेंद फेंककर जो बल्लेबाज़ को रन आउट करे

आपको बता दें, दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षक अविश्वसनीय रूप से तेज, चुस्त, फुर्तीले होते हैं।

क्षेत्ररक्षण स्थिति

क्षेत्ररक्षण के कई मानक स्थिति हैं, इनका प्रयोग आमतौर पर किया जाता है, जबकि अन्य का प्रयोग कम किया जाता है।

एक काल्पनिक रेखा जो क्रिकेट के मैदान को दो हिस्सों में बांटती है एक ऑफसाइड, दूसरा ऑनसाइड (लेग साइड), कई क्षेत्ररक्षण स्थितियों के नाम इसी से संबंधित हैं। कुछ नाम काफी स्पष्ट हैं जैसे की लॉन्ग ऑन, लॉन्ग ऑफ जबकि अन्य अजीब लग सकते हैं जैसे कि कवर, पॉइंट, मिड विकेट आदि।

कुछ क्षेत्ररक्षण स्थितियां दूसरों की तुलना में अधिक आक्रामक होती हैं, जिन्हें विशेष रूप से बल्लेबाज को आउट करने के लिए तैनात किया जाता है जबकि अन्य रन बचाने का प्रयास करते हैं।

कुछ मामूली अपवादों को छोड़कर फील्डरों को कहीं भी रखा जा सकता है जैसे कि:

  • किसी भी फील्डर को पिच पर तैनात नहीं किया जा सकता है
  • स्क्वायर लेग के पीछे मैदान के क्वार्टर में विकेटकीपर के अलावा दो से अधिक क्षेत्ररक्षक नहीं किए जा सकते
  • सीमित ओवर क्रिकेट प्रारूपों में 30-गज घेरे के बाहर क्षेत्ररक्षकों की संख्या पर प्रतिबंध होता है

भले ही क्रिकेट को बल्ले और गेंद का खेल माना जाता हो लेकिन क्रिकेट के इस नए युग में क्षेत्ररक्षण का महत्व काफी बढ़ गया है। कई मैच अब फील्डिंग टीम की गुणवत्ता के आधार पर जीते या हारे जाते हैं।

हालांकि आज भी किसी खिलाड़ी का चयन सिर्फ फील्डिंग प्रतिभा के दम पर टीम में नहीं होता लेकिन एक क्षेत्ररक्षक में सफल होने के लिए आवश्यक सर्वोच्च सजगता और चपलता कुछ ऐसी चीजें हैं जो क्रिकेट को एक असाधारण खेल बनाती हैं।

रन-स्कोरिंग के बारे में जानें | Know About Run-Scoring in Hindi

क्रिकेट के पूरे खेल में एक एक रन के लिए संघर्ष होता है, एक टीम रन बनाने के लिए तो दूसरी रन बचाने के लिए संघर्ष करती है, कोई गेंद को मारने के लिए तो कोई गेंद को पकड़ने के लिए संघर्ष करता है।

आधुनिक क्रिकेट में रन बहुत तेज़ी से बनाए जाते हैं, चाहे प्रारूप कोई भी हो।

रन क्या है?

क्रिकेट में रन वही है जो किसी भी अन्य खेल में पॉइंट या स्कोर होता है, लेकिन इसमें इसके अलावा भी बहुत कुछ है:

जिस तरह हर खेल में जीतने के लिए टीमें अपने अंकों को बढ़ाने में लगी रहती है, उसी तरह क्रिकेट में भी टीमें अपने रन बढ़ाने में लगी रहती हैं।

तो चलिए, अब नज़र डालते हैं उन सभी अलग-अलग तरीकों पर जिनसे कोई टीम रन बना सकती है या किसी टीम के खाते में रन जोड़े जा सकते हैं:

चौका और छक्का

बाउंड्री पर हिट का मूल्य चार या छह रन होता है। यदि गेंद सीमा रेखा को पार करने से पहले ज़मीन को छू ले तो चार और न छुए तो छह रन मिलते हैं जो एक गेंद पर बनाए जाने वाले अधिकतम रन है।

विकेटों के बीच दौड़ना

स्कोरिंग का दूसरा तरीका विकेटों के बीच दौड़ने का है। दोनों बल्लेबाज पिच की लंबाई तक विपरीत दिशाओं में एक साथ दौड़कर अपनी जगह अदला-बदली करते हैं, जबकि क्षेत्ररक्षक गेंद को एक बार पुनः प्राप्त कर रहे होते हैं।

पूरी की गई पिच की लंबाई एक रन के बराबर होती है। एक रन पूरा करने के लिए बल्लेबाज को विपरीत दिशा की पॉपिंग क्रीज के अंदर की जमीन को अपने बल्ले से या शरीर से छूना होता है।

बल्लेबाज एक गेंद पर जितना संभव हो उतने रन बना सकते है लेकिन उन्हें सटीक आकलन करना होता है कि बिना किसी बल्लेबाज के रन आउट हुए वो कितने रन पूरे किए जा सकते हैं।

अतिरिक्त रन

स्कोरिंग के और भी तरीके होते हैं जिन्हें अतिरिक्त रन की श्रेणी में रखा गया है:

वाइड बॉल

कोई गेंद बल्लेबाज के हिट करने के लिए बहुत दूर या बहुत ऊंची होती है तो अंपायर द्वारा उसे वाइड बॉल कहा जाता है।

नो बॉल

अवैध गेंद को नो बॉल कहा जाता है जिसके पीछे तीन में से कोई एक कारण हो सकता है:

  • गेंदबाज के अगले पैर का कोई भी हिस्सा पॉपिंग क्रीज के पीछे न हो
  • गेंदबाज का पिछला पैर रिटर्न क्रीज से काफी दूर चला जाए
  • बल्लेबाज की कमर की ऊंचाई के ऊपर बिना उछाल के गेंदबाजी की जाए

इन सभी मामलों में बल्लेबाजी पक्ष को एक अतिरिक्त रन मिलता है और गेंदबाज को वह गेंद दोबारा फेंकनी पड़ती है।

सीमित ओवर क्रिकेट प्रारूपों में नो बॉल के बाद की गई अगली गेंद फ्री हिट हो जाती है, जिसका अर्थ है कि बल्लेबाज रन आउट के अलावा किसी भी तरह से आउट नहीं हो सकता है।

लेग बाय

बल्ले के अलावा बल्लेबाज के शरीर के किसी भी हिस्से पर गेंद लगने पर बनाया गया रन लेग बाय कहलाता है।

बाय

ऐसी गेंद पर बनाया गया रन जो बल्ले या बल्लेबाज के शरीर के किसी भी हिस्से पर न लगी हो, बाय कहलाता है। अधिकतर ऐसा होता है जब विकेटकीपर कोई गेंद को रोकने में असफल हो जाता है।

पेनल्टी रन

पेनल्टी रन अंपायर विभिन्न कारणों से दंड के रूप में विपक्षी टीम के स्कोर में जोड़ सकते है। लेकिन क्रिकेट में ऐसा कम ही देखने को मिलता है।

क्रिकेट में हर एक रन मायने रखता है, क्योंकि इस खेल में जीत या हार का निर्णय रनों के आधार पर ही तय होता है।

प्रारूपों के बारे में जानें | Know About Formats in Hindi

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट तीन अलग-अलग प्रारूपों में खेला जाता है।

1. टेस्ट 2. ओडीआई और 3. टी20आई

टेस्ट

टेस्ट प्रारूप क्रिकेट का सबसे पुराना और सबसे पारंपरिक रूप है। इस प्रारूप में खिलाड़ी सफेद कपड़े पहनकर लाल रंग की गेंद से क्रिकेट खेलते हैं। इस प्रारूप का एक मैच लगातार पांच दिनों तक खेला जाता है, जिसमें प्रत्येक दिन का खेल सात घंटे तक चलता है। इस प्रारूप के एक मैच में दो ब्रेक शामिल होते हैं, प्रत्येक पक्ष को दो बार बल्लेबाजी करने का अवसर मिलता है।

टेस्ट प्रारूप को असीमित ओवरों का क्रिकेट कहा जा सकता है, इसमें एक टीम अपने 10 बल्लेबाज़ों के आउट होने से पहले जब तक चाहे बल्लेबाजी कर सकती है।

हालांकि, क्रिकेट के हर प्रारूप का मैच टाई में समाप्त हो सकता है पर केवल टेस्ट क्रिकेट एक ऐसा प्रारूप है जिसका मैच ड्रा में भी समाप्त हो सकता है।

ओडीआई

ओडीआई प्रारूप सीमित ओवर क्रिकेट का सबसे पुराना रूप है जहाँ प्रत्येक पक्ष के पास बल्लेबाजी के लिए अधिकतम 50 ओवर होते हैं।

इस प्रारूप का मैच सात से आठ घंटे तक चलता हैं जो एक दिन के भीतर पूरा हो जाता है। इस प्रारूप के मैच में केवल एक ब्रेक लिया जाता और प्रत्येक पक्ष को सिर्फ एक बार बल्लेबाजी करने का अवसर मिलता है। इस प्रारूप में खिलाड़ी रंगीन कपड़े पहनते हैं और खेल के लिए सफेद गेंद का उपयोग किया जाता है।

ओडीआई प्रारूप के मैच में 30 गज के दायरे के बाहर क्षेत्ररक्षकों की संख्या विभिन्न चरणों में प्रतिबंधित होती है। इसी प्रकार गेंदबाजों के ओवर भी सीमित होते हैं, एक गेंदबाज को प्रति पारी केवल 10 ओवर फेंकने की अनुमति होती है।

पहला एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच साल 1971 में खेला गया था इस प्रारूप का शिखर आयोजन आईसीसी ओडीआई विश्व कप हर चार साल में एक बार किया जाता है।

टी20आई

टी20 प्रारूप सीमित ओवर क्रिकेट का सबसे नया और सबसे विस्फोटक रूप है। जैसे की इस प्रारूप के नाम से ही पता चलता है, प्रत्येक पक्ष के पास बल्लेबाजी के लिए अधिकतम 20 ओवर होते हैं। इस प्रारूप के मैच आम तौर पर लगभग तीन घंटे तक चलते हैं।

इसके अलावा बाकी समानताएं ओडीआई प्रारूप की तरह ही होती हैं जैसे की:

  • खिलाड़ी रंगीन कपड़े पहनते हैं।
  • खेल में सफेद रंग की गेंद का उपयोग किया जाता है।
  • टीम के पास बल्लेबाजी करने के लिए केवल एक पारी होती है।
  • पूरे मैच के दौरान सिर्फ एक ब्रेक लिया जाता है।
  • 30 गज के दायरे के बाहर क्षेत्ररक्षकों की संख्या विभिन्न चरणों में प्रतिबंधित होती है।
  • गेंदबाजों के ओवर भी सीमित होते हैं (एक गेंदबाज को प्रति पारी केवल 4 ओवर फेंकने की अनुमति होती है)

पहला टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच साल 2005 में खेला गया था और इस प्रारूप का शिखर आयोजन आईसीसी टी20आई विश्व कप हर दो साल में एक बार किया जाता है।

क्रिकेट के बारे में निष्कर्ष | Conclusion About Cricket in Hindi

क्रिकेट नेतृत्व, टीम वर्क और तंत्रिका नियंत्रण का खेल है। इस खेल को खेलने के लिए शारीरिक रूप से मजबूत और जीतने के लिए मानसिक रूप से मजबूत रहने की आवश्यकता होती है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि क्रिकेट एक दिलचस्प खेल होने के कारण आज निश्चित रूप से दुनिया भर के कई खेल प्रेमियों का सबसे पसंदीदा खेल है।

क्रिकेट को एक आधुनिक खेल के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से आए दिन इसमें बदलाव किए जाते हैं, इसलिए हम इस लेख को समय-समय पर नई जानकारियों के साथ अपडेट करते रहेंगे।

हमारा उद्देश्य इस लेख के माध्यम से आपको आसान भाषा में क्रिकेट के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देना था, आशा है की हम इसमें सफल रहे होंगे और हमें विश्वास है कि आप वो सब कुछ जान चुके होंगे जो आप खोज रहे थे।

यदि क्रिकेट के संबंध में आपका कोई प्रश्न या राय हो, तो कृपया नीचे कमेंट करें और लेख को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर साझा करना न भूलें। धन्यवाद!